June 14, 2024

अर्धनग्न कपड़े पहनने वालों की ‘नो एंट्री’, नागपुर के 4 मंदिरों में ड्रेस कोड लागू, पूरे महाराष्ट्र के लिए है ये योजना

नागपुर। महाराष्ट्र मंदिर महासंघ की ओर से आज यानी शुक्रवार से नागपुर के चार मंदिरों में ड्रेस कोड लागू कर दिया गया है। महासंघ की ओर से मंदिर की पवित्रता को बनाए रखने के लिए यह ड्रेस कोड लागू किया गया है। महासंघ का मानना है कि ड्रेस कोड देश के कई मंदिरों, गुरुद्वारों, चर्चों, मस्जिदों और अन्य पूजा स्थलों पर लागू है। यह ड्रेस कोड महाराष्ट्र के 300 से अधिक मंदिरों में लागू किया जाएगा। कटी-फटी जींस, अर्धनग्न कपड़े, स्कर्ट, उत्तेजक वस्त्र, अशोभनीय वस्त्र पहन कर प्रवेश पर पाबंदी लगा दी गई है।

“इस संबंध में प्रचार-प्रसार किया जाएगा”

महाराष्ट्र मंदिर महासंघ के पदाधिकारियों ने बताया कि इस तरह के कपड़े पहनकर मंदिर आते हैं, तो उन्हें ओढनी, दुपट्टा, लूंगी दिया जाएगा, जिसके बाद उन्हें प्रवेश दिया जाएगा। महासंघ की ओर से कहा गया है कि इस संबंध में प्रचार-प्रसार किया जाएगा। नागपुर के धंतोली श्री गोपाल कृष्ण मंदिर, श्री संकट मोचन पंचमुखी हनुमान मंदिर बेलोरी, बृहस्पति मंदिर कानॉली बारा और दुर्गा मंदिर हिलटप महाराष्ट्र मंदिर महासंघ की बातों को मानते हुए यह गाइडलाइन जारी कर दिया है।

उत्तेजक वस्त्र पहनकर आने वाले पर रोक

महाराष्ट्र मंदिर महासंघ के समन्वयक सुनील धनवटे ने बताया कि मंदिर महासंघ की 4 और 5 फरवरी 2023 को एक बैठक हुई थी, महाराष्ट्र मंदिर न्यास परिषद में यह निर्णय लिया गया कि महाराष्ट्र में मंदिरों के लिए कुछ गाइडलाइन जारी किया जाए। उत्तेजक वस्त्र पहनकर मंदिर में प्रवेश करने वालों पर रोक लगाई जाए, उस दौरान लगभग डेढ़ सौ मंदिरों के प्रतिनिधि मौजूद थे, नागपुर के 4 मंदिरों ने इसे तुरंत लागू करने की बात स्वीकार किया है।

error: Content is protected !!